• प. बंगाल में अमित शाह की रैली हुई रद्द, नहीं मिली हेलिकॉप्टर लैंडिंग की इजाजत
  • नए सीबीआई प्रमुख के चयन की प्रक्रिया पारदर्शी होनी चाहिए: कांग्रेस
  • नौसेना का दो दिवसीय वृहद रक्षा अभ्यास आज से
  • सभी आईसीपी पर आवासीय परिसर बनाए जाएंगे: राजनाथ
  • ऑस्कर में भारती आधारित फिल्म ‘पीरियड : एंड ऑफ सेंटेंस’ को मिला नामांकन
  • अठावले ने अन्नाद्रमुक को लोकसभा चुनाव में राजग से हाथ मिलाने को कहा
  • मद्रास उच्च न्यायालय ने चुनाव आयोग से पूछा, 18 सीटों पर चुनाव क्यों नहीं हुए हैं
  • भाजपा आगामी लोकसभा चुनाव जीतेगी: राजनाथ
  • शाह के हेलीकॉप्टर के उतरने की इजाजत के विषय पर भाजपा झूठ फैला रही: TMC
  • भाजपा के फासीवादी सोच को दिखाता है जावड़ेकर का बयान: ओवैसी
  • साइबर विशेषज्ञ दावा: गोपीनाथ मुंडे के भतीजे ने रॉ से जांच कराने की मांग की
  • PNB फ्रॉड: मेहुल चोकसी ने छोड़ी भारत की नागरिकता
  • बोलीविया में बस खाई में गिरी, 13 लोगों की मौत
होमMoreइंद्रधनुषMoreटेक साइंस
Redstrib
टेक साइंस
Blackline
जींद। कहते हैं भगवान देता है तो छप्पर-फाड़ के देता है, कुछ ऐसा ही वाक्या जींद के उस मोची के साथ भी हुआ, जिसके जूतों के अस्पताल से प्रभावित होकर महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने उसकी किस्मत बदल दी।
Published 20-Aug-2018 10:05 IST | Updated 07:22 IST