• लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे पर एयरफोर्स का बड़ा अभ्यास
  • महिला की तस्वीर खींचने पर मप्र के गुना में भाजपा नेता पर मामला दर्ज
  • लोकसेवक संरक्षण कानून को लेकर बैकफुट पर वसुंधरा, प्रवर समिति को सौंपेगी बिल
Redstrib
सेहत
Blackline
गर्भधारण के बाद महिला के शरीर में कुछ अलग प्रतिक्रियाएं होनी शुरू हो जाती हैं, इसके परिणाम शरीर में बाहरी रूप में दिखाई देने शुरू हो जाते हैं। प्रांरभिक सप्‍ताह के लक्षण दूसरे सप्‍ताह में भी मौजूद रहते हैं। ऐसे में महिला को थकान, बुखार, हाथ-पैरों में सूजन और सिर दर्द आदि की शिकायत बनी रहने की आशंकाMore
Published 23-Oct-2017 00:15 IST
ऐसे समाज में जहां माहवारी को लेकर तमाम तरह की गलत धारणाएं व वर्जनाएं पाई जाती हों, जम्मू एवं कश्मीर के सीमावर्ती गांव की दो महिला सामाजिक उद्यमी इस नियमित जैविक प्रक्रिया से जुड़ी वर्जनाओं के प्रतिरोध में सामने आई हैं। वे ना सिर्फ जागरूकता फैलाने में जुटी हैं, बल्कि उन गरीब महिलाओं की मदद करने केMore
Published 22-Oct-2017 00:15 IST
त्योहार आते हैं और लोगों का अनहेल्दी खाना शुरू हो जाता है। मिठाइयां, तली हुई चीजें आदि से लोग अपना पेट भरना शुरू कर देते हैं। आप चाहे साल के 365 दिन क्‍यूं ना डाइटिंग कर लें, लेकिन दिवाली के दिन डाइटिंग नहीं ही हो पाती। इस दिन आप तरह तरह की मिठाइयां, तले हुए खाने, शराब आदि जैसी हानिकारक चीजों काMore
Published 21-Oct-2017 00:15 IST
दिनों दिन शहरी भारत में स्पा कल्चर तेजी से विकास कर रहा है। इसमें भी फिश स्पा शहरी युवा वर्ग खासतौर लेना चाहता है। हालांकि ये देखने और सुनने में बेहद लुभावना लगता है साथ ही ऐसा महसूस होता है कि फिश स्पा हमारी स्किन को चमकती और दमकती हुई बना देता है। जबकि हकीकत इतनी सपाट नहीं है। असल में फैंसी फिशMore
Published 20-Oct-2017 00:15 IST
भारत में हर 10 लाख लोगों में करीब 30 लोग सिस्टेमिक ल्यूपूस एरीथेमेटोसस (एसएलई) रोग से पीड़ित पाए जाते हैं। महिलाओं में यह समस्या अधिक पाई जाती है। इस रोग से पीड़ित 10 महिलाओं के पीछे एक पुरुष ल्यूपस से पीड़ित मिलेगा। एसएलई को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है। जागरूकता की कमी के कारण, अक्सर चार साल बादMore
Published 19-Oct-2017 00:15 IST
चेहरे को सुंदर बनाने के लिए आप कई तरह की चीजें खाते है लेकिन आपको इस बात का डर रहता है कि कहीं उससे आपकी सेहत को कोई नुकसान न हो जाएं। ऐसे में अब आपको परेशान होने की जरुरत नहीं। आज हम आपके लिए ब्‍लैक फूड लाए है जिसे खाने से आपके चेहरे के साथ-साथ सेहत की समस्यां भी दूर जाएगी। ये चीजें चेहरे केMore
Published 18-Oct-2017 00:15 IST
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अुनसार, भारत में हर साल पांच लाख लोग कैंसर से अकाल मौत का शिकार हो रहे हैं। कैंसर रोगियों की संख्या इसी रफ्तार से बढ़ती रही, तो 2015 में यह मृत्युदर सात लाख तक पहुंच जाएगी। पॉपुलेशन बेस्ड कैंसर रजिस्ट्री (पीबीसीआर) के अनुसार, भारत में एक साल में करीब 1,44,000 नए स्तन कैंसरMore
Published 17-Oct-2017 00:15 IST
अवसाद से दुनिया की आधी से अधिक आबादी परेशान है। यह एक ऐसा डिसऑर्डर है जिसका व्यक्ति कब शिकार हो जाये उसे पता तक नहीं चलता। अवसाद की वजह से न जाने कितने सारे लोग सुसाइड कर लेते हैं। यह एक ऐसी बीमारी है जो किसी भी उम्र में किसी को भी हो सकता है।
Published 16-Oct-2017 00:15 IST
गेंहू के अंकुर या वीट जर्म गेहूं की गुठली का सबसे अच्छा हिस्सा है जिसमें अनाज की सभी खूबियां भरी होती हैं। गेहूं के एक अनाज के 3 भाग होते हैं: बाहरी परत, जिसे चोकर या ब्रैन कहा जाता है। आटा प्राप्त करने के लिए पाउडर बनाए जाने वाले गेहूं में एन्डोस्पर्म और अंकुर या जर्म या अनाज का सबसे भीतरी भाग होताMore
Published 15-Oct-2017 00:15 IST
जिम जाने वाले लोगों के बीच केटोजेनिक डायट काफी लोकप्रिय है। इसमें कम कार्बोहाइड्रेट और फैट अधिक होता है जो वजन कम करने के लिए प्रभावी है और बॉडी में एसिडिटी लेवल कम करती है। लेकिन क्या आप जानते हैं इस डायट को लेने से आपके शरीर का क्या होता है? आमतौर पर जब कार्बोहाइड्रेट उपलब्ध होता है, तो आपका शरीरMore
Published 14-Oct-2017 12:16 IST
हाथ धोने की सलाह अक्सर हमें दी जाती है, ताकि हम स्वस्थ रहें। वैज्ञानिक अनुमान लगाते हैं कि 80 फीसदी संक्रमण हाथों के माध्यम से प्रेषित होते हैं। लेकिन हाथों को धोने का मतलब है कि आपको उन्हें बाद में सूखना भी चाहिए। जब आप घर पर होते हैं, तो तौलिया का इस्तेमाल करते होंगे लेकिन फैंसी रेस्टोरेंट या मॉलMore
Published 13-Oct-2017 00:15 IST
डेमेनशिया एक ऐसी बीमारी है जो व्यक्ति को दिमागी रूप से कमजोर कर देती है, इतना कमजोर कि व्यक्ति सामान्यतः चीजें भूलने लग जाता है। यह बीमारी लोगों में बढ़ती उम्र के दौरान होती है जिसका पूरी तरह से इलाज अभी तक संभव नहीं हुआ है।
Published 12-Oct-2017 00:15 IST
रटगर्स विश्वविद्यालय न्यू ब्रंसविक के वैज्ञानिकों ने जेनेटिक इंजीनियरिंग तकनीक का इस्तेमाल कर टॉरेट सिंड्रोम के बारे में पता लगाने की कोशिश की है। वैज्ञानिकों ने टॉरेट सिंड्रोम से ग्रसित तीन पीढ़ी वाले परिवार के व्यक्ति के ब्लड सेल से ब्रेन सेल बनाया और यह जानने की कोशिश की कि आखिर इस बीमारी का कारणMore
Published 11-Oct-2017 00:15 IST
हमारे शरीर में मौजूद फैट न जाने कितनी बीमारियों का कारक है। बढ़ता मोटापा सिर्फ आपके शरीर के वजन को ही नहीं बढ़ाता है बल्कि डायबिटीज, कैंसर और कई सारी बीमारियों का जन्मदाता है। इसके कारण लोग न जाने कितने पैसे खर्च कर मोटापे को कम करने में लगे हुए हैं।
Published 10-Oct-2017 00:15 IST | Updated 15:27 IST
हमारे देश में लड़की जब किशोराअवस्था से अपने गृहस्थ जीवन में प्रवेश करती है तो उसे कई तरह के संस्कार सिखाये जाते हैं कि ससुराल में ऐसा बर्ताव करना चाहिये, ऐसे रहना चाहिये। साथ ही उसे सिंदूर का महत्व भी समझाया जाता है।
Published 09-Oct-2017 00:15 IST

video playआगरा-लखनऊ एक्प्रेसवे बना AirForce का
video playकौमी एकता की अनूठी मिसाल, ये मुस्लिम परिवार दशकों से कर रहा छठ
कौमी एकता की अनूठी मिसाल, ये मुस्लिम परिवार दशकों से कर रहा छठ
video playबिजनौर: आज नजीबाबाद आएंगे सीएम योगी, जिला प्रशासन अलर्ट
बिजनौर: आज नजीबाबाद आएंगे सीएम योगी, जिला प्रशासन अलर्ट
video playआजमगढ़ में BSP की महारैली आज, BJP के खिलाफ हमला बोलेंगी मायावती
आजमगढ़ में BSP की महारैली आज, BJP के खिलाफ हमला बोलेंगी मायावती

बच्चों के छोटे दांतों का ऐसे रखें ख्याल
video playशिशुओं के विकास के लिए आयोडीन जरूरी
शिशुओं के विकास के लिए आयोडीन जरूरी

अब सिर्फ एक क्लिक से अपने फोन वायरस से बचाएं
video playइस स्मार्टवॉच के लिए फोन की जरूरत नहीं
इस स्मार्टवॉच के लिए फोन की जरूरत नहीं
video playनया गूगल डूडल: कौन थे नैन सिंह रावत?
नया गूगल डूडल: कौन थे नैन सिंह रावत?

चीनः सीपीसी ने शी के दूसरे कार्यकाल को मंजूरी दी
video playचीनः सीपीसी ने शी के दूसरे कार्यकाल को मंजूरी दी
चीनः सीपीसी ने शी के दूसरे कार्यकाल को मंजूरी दी
video playसोशल मीडिया के बिना चुनाव नहीं जीत सकता था : ट्रंप
सोशल मीडिया के बिना चुनाव नहीं जीत सकता था : ट्रंप