• संसद पर हमले की 16वीं बरसी, गृहमंत्री ने दी शहीदों को श्रद्धांजलि
  • कोयला घोटाले में झारखंड के पूर्व सीएम मधु कोड़ा दोषी करार
  • हार्दिक की राहुल और रॉबर्ट वाड्रा से हुई थी सीक्रेट मीटिंग, पास नेता का आरोप
  • गुजरात में खत्म हुआ चुनाव प्रचार, कल पड़ेंगे वोट
Redstrib
सेहत
Blackline
आज कल की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में शरीर में हम अपने शरीर का ख्याल नहीं रख पाते हैं जिसके बाद हम कई बिमारियों का शिकार हो जाते हैं। बढ़ती उम्र के साथ गिरता ब्लड प्रेशर, मतलब मौत की तरफ बढ़ता एक-एक कदम। जी हां, मैन्सफील्ड विश्वविद्यालय, कनेक्टिकट के शोधकर्ताओं ने एक शोध में पाया है कि वृद्धावस्था मेंMore
Published 13-Dec-2017 16:17 IST
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) का मानना है कि धूम्रपान और तंबाकू के उपयोग को सकारात्मक दृष्टिकोण से हतोत्साहित किया जा सकता है। आंकड़ों के अनुसार, बच्चों और किशोरों में तंबाकू इस्तेमाल करने की आदत के कारण भारत में करीब 10 लाख मौतें हो जाती हैं।
Published 13-Dec-2017 00:15 IST
शोधकर्ताओं ने एक ऐसी दवा की खोज की है, जो मांसपेशियों में निष्क्रियता रोकने में असरदार साबित हो सकती है। एसआर8278 नामक दवा से फ्राइब्रोसिस (दाग-धब्बों) और डचेन मस्कुलर डिस्ट्रॉफी (डीएमडी) के तहत आने वाली मांसपेशियों की निष्क्रियता को रोका जा सकता है।
Published 12-Dec-2017 00:15 IST
कैंसर एक लाइलाज बीमारी है जिसके ना जानें कितने ही रूप है जिसने लोगों की जिंदगी दांव पर लगा रखी है। इस कैंसर का इलाज जो अवेलेबल वह इतना ज्यादा है कि नॉर्मल इंसान उसे अफोर्ड कर ही नहीं सकता है। इसी कैंसर का एक और प्रकार है जोकि ब्रेस्ट कैंसर है।
Published 11-Dec-2017 10:49 IST
उच्च-जोखिम के जेनेरिक प्रोफाइल वाली युवा महिलाओं को स्तन कैंसर का पता लगाने के लिए सालाना मैमोग्राम कराने की तुलना में हर छह महीने पर एमआरआई करवाना ज्यादा उचित रहेगा। ऐसा शोधकर्ताओं का कहना है।
Published 10-Dec-2017 07:23 IST
मच्छरों के उत्पात से सभी परेशान रहते हैं। मच्छरों के काटने से कितनी सारी बीमारियां होती हैं इससे तो सभी बहुत अच्छी तरह वाकिफ हैं ज्यादा कुछ बताने की जरूरत नहीं है। मच्छर किसी को मौत के मुंह तक पहुंचा सकता है।
Published 09-Dec-2017 00:15 IST
कैंसर एक जानलेवा बीमारी है इससे हर कोई वाकिफ है। ना जानें कितने लोगों की हर साल ये कैंसर जान लेता है। मुंह, जीभ, गले, ब्रेस्ट, लीवर के जानलेवा कैंसर के नामों में एक नाम शामिल है पैंक्रिएटिक कैंसर का। रिसर्चर्स ने इसको लेकर एक रिसर्च की और कुछ जानकारियां उपलब्ध कराईं हैं।
Published 08-Dec-2017 15:31 IST
जब भी एक पुरुष और स्त्री की तुलना की जाती है तो अक्सर एक बात कही जाती है कि स्त्री पुरुष से हर मामले में जैसे दिमाग, शरीर हर मामले में स्ट्रोग होती है। लेकिन आपने ध्यान दिया होगा कि पुरुष सभी किस्म के व्यायाम को करने के मामले में महिलाओं से अधिक फिट होते हैं।
Published 07-Dec-2017 00:15 IST
मोटापा परेशानियों का कारण बनता है, फिर भी जो लोग सचेत नहीं हैं, वे इसे बीमारी मानने को तैयार नहीं होते। इतना ही नहीं, मोटापे से ग्रस्त लोग कोई टीका-टिप्पणी भी सहन नहीं करते। मोटापे को कोई भले ही न माने, लेकिन चिकित्सक तो कहते हैं कि यह कई रोगों को बुलावा देता है।
Published 05-Dec-2017 00:15 IST | Updated 16:04 IST
न्यूयॉर्क। नियमित रूप से दांतों की सफाई से एक और खतरे से बचा जा सकता है। दरअसल एक अध्ययन में पता चला है कि मसूढ़े की बीमारी के जीवाणुओं से आहारनाल में कैंसर का खतरा बढ़ सकता है।
Published 04-Dec-2017 00:15 IST
माइग्रेन की बीमारी ऐसी है जो आज की डेट में हर दूसरे इंसान को परेशान किये हुए है। इसका कारण हमारी बदलती लाइफ स्टाइल ज्यादा करके है। जिसके कारण आप कई दफा खुद को हताश फील कर सकते हैं। जोकि आपके लिये खतरनाक साबित हो सकता है।
Published 04-Dec-2017 00:15 IST
भारत में नागरिकों को भांति-भांति की स्वास्थ्य समस्याएं पहले से ही परेशान किए हुए हैं, ऐसे में एक ताजा अध्ययन से पता चला है कि लगभग 68 प्रतिशत वयस्कों को एडल्ट वेक्सीनेशन के बारे में जानकारी ही नहीं है।
Published 02-Dec-2017 00:15 IST
वजन कम करने के सफर को सोशल मीडिया पर साझा करने से आपका कुछ वजन और कम हो सकता है। यह बात हाल ही में किए एक अध्ययन में सामने आई है। इस शोध के लिए शोधकर्ताओं ने आभासी समुदाय और सार्वजनिक प्रतिबद्धता की भूमिका की जांच की।
Published 01-Dec-2017 00:15 IST
विभिन्न अध्ययनों से साबित हो चुका है कि विटामिन डी से हृदय रोग, स्कलेरोसिस और यहां तक कि गठिया जैसे रोगों के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है। एक नए अध्ययन में पाया गया है कि विटामिन डी की कमी से डिमेंशिया या मनोभ्रंश होने का जोखिम बढ़ सकता है। अध्ययन के अनुसार, विटामिन डी की अधिक कमी वाले लोगोंMore
Published 30-Nov-2017 00:15 IST
हमने अक्सर देखा है कि कुछ लोग किसी काम को बड़े परफैक्शन से करते हैं और कुछ लोगों के गलती के चांस बढ़ जाते हैं, वे लोग गलतियां कर बैठते हैं। तो क्या ये उनके समझ में फर्क होने से होता है या फिर उनके दिमाग की संरचना ही ऐसी होती है।
Published 29-Nov-2017 00:15 IST

महिला सुरक्षा के लिए मेनका गांधी ने उठाया ये कदम
video playशत्रुघ्न सिन्हा ने ट्वीट कर कहा- ताली कप्तान को तो गाली...
शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्वीट कर कहा- ताली कप्तान को तो गाली...

कम
video playज्यादा उम्र में गर्भधारण से बेटियों को है बांझ होने का खतरा
ज्यादा उम्र में गर्भधारण से बेटियों को है बांझ होने का खतरा
video playभ्रूण विकास संबंधी जटिलताओं में वियाग्रा प्रभावी नहीं
भ्रूण विकास संबंधी जटिलताओं में वियाग्रा प्रभावी नहीं

अब 1 जनवरी से घर बैठे कर सकेंगे सिम को आधार से लिंक
video playफेसबुक पर अब जल्द ही मिलेगा नए
फेसबुक पर अब जल्द ही मिलेगा नए 'ग्रीटिंग्स' का फीचर

video playपाकिस्तान के साथ रिश्ते खराब हुए हैं : अमेरिका
पाकिस्तान के साथ रिश्ते खराब हुए हैं : अमेरिका