• झारखंड के पलामू में बस हादसा, 8 की मौत और कई घायल
  • रायपुर: सुकमा नक्सल हमले में मारे गए सीआरपीएफ जवानों के शव सीएएफ कैंप लाए गए
  • इंदौर: BMW कार में मिले 1000 और 500 के कुल 44 लाख 86 हजार के पुराने नोट
  • ऑर्म्स डीलर संजय भंडारी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने से इंटरपोल का इंकार
  • अभिनेता आमिर खान को दंगल फिल्म के लिए RSS प्रमुख मोहन भागवत ने किया सम्मानित
  • दिल्ली : छावला इलाके में रिटायर्ड BSF जवान ने पत्नी को मारी गोली
  • आईपीएल: चोटिल ड्वेन ब्राबो की जगह गुजरात लायंस की टीम में इरफान पठान की वापसी
  • हरियाणा : सोनीपत में बदमाशों का आतंक, प्रॉपर्टी डीलर की गोली मारकर हत्या
  • मालेगांव ब्लास्ट केस: बॉम्बे हाईकोर्ट से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को मिली जमानत
  • छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सली हमले में CRPF के 26 जवान शहीद
होमMoreधर्मक्षेत्रMoreमान्‍यताएं
Redstrib
मान्‍यताएं
Blackline
ऋषिकेश। तीर्थनगरी ऋषिकेश बम बम भोले की गूंज से गुंजाएमान होने लगी है। बसंत माह में चलने वाली नीलकंठ यात्रा के लिए बड़ी संख्या में शिवभक्त ऋषिकेश का रुख करने लगे हैं। जिसके चलते प्रशाशन भी मुस्तैद हो गया है। फरवरी को होने वाली नीलकंठ महाशिवरात्रि के लिए श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गयाMore
Published 20-Feb-2017 19:43 IST | Updated 09:04 IST
देश में विमुद्रिकरण के बाद ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि दबा के रखे गये लाखों करोड़ों बेनामी रुपए महज कागज के टुकड़ों में तब्‍दील हो जाएंगे। सनातन धर्म में इसके लिए हजारों साल पहले ऋषि भर्तृहरि ने जनमानस को आगाह करते हुए धन की तीन गतियों के बारे में बतलाया था। ये तीन गतियां हैं - दान, भोग और नाश।
Published 17-Nov-2016 11:24 IST | Updated 11:38 IST
सोनपुर मेले की शुरुआत कब से हुई इसकी कोई निश्चित जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन कहा जाता है कि हजारो वर्ष पूर्व से यहां पशु बाजार लगता आ रहा है।
Published 15-Nov-2016 17:11 IST
पाली। भारत में जितनी परंपराएं हैं, उससे जुड़ी उतनी ही पौराणिक कथाएं भी हैं। इनमें से कई का वर्णन पुराणों और ग्रंथों में मिलता है। ऐसी ही एक चमत्कारिक घटना राजस्थान के पाली जिले में देखने को मिलती है। यहां स्थित शीतला माता के मंदिर का इतिहास 800 साल पुराना है।
Published 15-Nov-2016 13:21 IST
सनातन धर्म के किसी भी शुभ कार्य, पूजा अथवा अध्यात्मिक व्यक्ति के नाम के पूर्व ''श्रीश्री 108'' लगाए जाने की परंपरा है। लेकिन, क्या सच में आप जानते हैं कि सनातन धर्म तथा ब्रह्माण्ड में 108 अंक का क्या महत्व है?
Published 11-Nov-2016 17:01 IST
महाभारतकालीन भारत में हस्‍थिनापुर के प्रधानमंत्री, धृतराष्‍ट्र और पांडु के भाई, धर्मराज के अवतार, विद्वान, मनीषि और नीति कुशल महात्‍मा विदुर की नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं। विदुर नीति के नाम से विख्‍यात ये नीतियां धृतराष्‍ट्र को महात्‍मा विदुर ने विस्‍तार से समझाया था।
Published 11-Nov-2016 16:11 IST | Updated 16:20 IST
देवर्षि नारद को भला कौन नहीं जानता। तीनों लोकों में स्‍वच्‍छंद विचरण करने तथा वाक् पटु और चंचल स्‍वभाव वाले नारद मुनि देवता ही नहीं दानवों के लिए भी आदरणीय माने गये हैं। लेकिन, क्‍या आप जानते हैं कि भगवान् ब्रह्मा के मानस पुत्र नारद मुनि का पुराना जीवन कैसा था ? आपको शायद ये जानकर हैरानी हो कि नारदMore
Published 07-Nov-2016 16:58 IST
नई दिल्ली। भाई-दूज का पर्व गोधन के नाम से भी जाना जाता है। इस पर्व को लेकर कई तरह की पौराणिक कथाएं प्रचलित है। शास्त्र के अनुसार कार्तिक शुक्ल द्वितीया के दिन ही यमुना ने अपने भाई यम को अपने घर बुलाकर सत्कार करके भोजन कराया था। इसीलिए इस त्योहार को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है।
Published 01-Nov-2016 09:13 IST | Updated 09:20 IST
दीपावली हिंदुओं का सबसे बड़ा त्योहार कहा जाए तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। इससे जुड़ी कईं कथाएं व किवदंतियां हमारे धर्म ग्रंथों में मिलती हैं। आज हम आपको दीपावली से जुड़ी कुछ ऐसी ही कथाएं बता रहे हैं।
Published 30-Oct-2016 12:05 IST
आज छोटी दिवाली है। दीपावली से ठीक एक दिन पहले यानी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी या रूप चतुर्दशी के रूप में मनाया जाता है। इसे आम बोलचाल की भाषा में छोटी दिवाली भी कहते हैं।
Published 29-Oct-2016 10:08 IST
नई दिल्ली। छोटी दिवाली पर श्री कृष्ण की जीत का जश्न मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार आज ही के दिन भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी और दुराचारी दु्र्दान्त असुर नरकासुर का वध किया था और सोलह हजार एक सौ कन्याओं को नरकासुर के बंदी गृह से मुक्त कर उनसे विवाह किया। ये 16 हजार देव कन्याएं श्रीकृष्ण कीMore
Published 29-Oct-2016 10:35 IST
नई दिल्ली। हिन्दू समाज में धनतेरस सुख-समृद्धि, यश और वैभव का पर्व माना जाता है। इस दिन धन के देवता कुबेर और आयुर्वेद के देव धन्वंतरि की पूजा का बड़ा महत्त्व है। हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि को मनाए जाने वाले इस महापर्व के बारे में स्कन्द पुराण में लिखा है कि इसी दिन देवताओंMore
Published 28-Oct-2016 08:57 IST | Updated 09:45 IST

video playसुकमा में शहीद हुआ हरियाणा का लाल, पत्नी बोली- कुछ करो सरकार नहीं तो उजड़ते रहेंगे सुहाग

video playइग्नू ने शुरू किया MOOC पाठ्यक्रम
इग्नू ने शुरू किया MOOC पाठ्यक्रम